हार-जीत का फैसला

बहुत समय पहले की बात है। आदि शंकराचार्य और मंडन मिश्र के बीच सोलह दिन तक लगातार शास्त्रार्थ चला। शास्त्रार्थ मेँ निर्णायक थीँ- मंडन मिश्र की धर्म पत्नी देवी भारती। हार-जीत का निर्णय होना बाक़ी था, इसी बीच देवी भारती को
शाश्त्रार्थ
शाश्त्रार्थ
किसी आवश्यक कार्य से कुछ समय के लिये बाहर जाना पड़ गया।
लेकिन जाने से पहले देवी भारती नेँ दोनोँ ही विद्वानोँ के गले मेँ एक-एक फूल माला डालते हुए कहा, येँ दोनो मालाएं मेरी अनुपस्थिति मेँ आपके हार और जीत का फैसला करेँगी। यह कहकर देवी भारती वहाँ से चली गईँ। शास्त्रार्थ की प्रकिया आगे चलती रही।
कुछ देर पश्चात् देवी भारती अपना कार्य पुरा करके लौट आईँ। उन्होँने अपनी निर्णायक नजरोँ से शंकराचार्य और मंडन मिश्र को बारी- बारी से देखा और अपना निर्णय सुना दिया। उनके फैसले के अनुसार आदि शंकराचार्य विजयी घोषित किये गये और उनके पति मंडन मिश्र की पराजय हुई थी।
सभी दर्शक हैरान हो गये कि बिना किसी आधार के इस विदुषी ने अपने पति को ही पराजित करार दे दिया। एक विद्वान नेँ देवी भारती से नम्रतापूर्वक जिज्ञासा की- हे ! देवी आप तो शास्त्रार्थ के मध्य ही चली गई थीँ फिर वापस लौटते ही आपनेँ ऐसा फैसला कैसे दे दिया ?
देवी भारती ने मुस्कुराकर जवाब दिया- जब भी कोई विद्वान शास्त्रार्थ मेँ पराजित होने लगता है, और उसे जब हार की झलक दिखने लगती है तो इस वजह से वह क्रुध्द हो उठता है और मेरे पति के गले की माला उनके क्रोध की ताप से सूख चुकी है जबकि शंकराचार्य जी की माला के फूल अभी भी पहले की भांति ताजे हैँ। इससे ज्ञात होता है कि शंकराचार्य की विजय हुई है।
विदुषी देवी भारती का फैसला सुनकर सभी दंग रह गये, सबने उनकी काफी प्रशंसा की।
दोस्तोँ क्रोध मनुष्य की वह अवस्था है जो जीत के नजदीक पहुँचकर हार का नया रास्ता खोल देता है। क्रोध न सिर्फ हार का दरवाजा खोलता है बल्कि रिश्तोँ मेँ दरार का कारण भी बनता है। इसलिये कभी भी अपने क्रोध के ताप से अपने फूल रूपी गुणों को  मुरझाने मत दीजिये।

Comments

  1. प्रिय मोती लाल जी मेरे ब्लॉग पर comment करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद। आपका ब्लॉग देखा। मुझे बहुत पसंद आया। अगर आप इंग्लिश में लिखें तो उसका ज्यादा लाभ मिलेगा क्योंकि हिंदी में लिखने से ब्लॉग केवल हिंदी क्षेत्र के दर्शकों तक सीमित हो जाता है और गूगल adsense भी आनाकानी करता है। अगर इंग्लिश में दिक्कत आती है तो कम से कम ट्रांसलेटर तो जरूर एक्टिवटे कर लें। About Me का पेज बनायें और SiteMap का पेज बनायें। एक अच्छी सी टेम्पलेट लगायें। हमारे राजस्थान में ब्लॉग लिखने वाले बहुत कम हैं उनकी सख्या बढ़ाने की कोशिश मैं भी कर रहा हूँ और आप भी करें। मैं सीकर जिले का निवासी हूँ और B.Tech कर के M.Tech की तैयारी कर रहा हू। हमारे क्षेत्र के ब्लोग्गर्स की सहायता के लिए 24 घंटे तत्पर रहता हूँ। आप मुझ से कमेंट, ईमेल anurag choudhary35@yahoo.in या 01571250052 पर कभी भी संपर्क कर सकते हैं। कभी भी मुझे लिखने में किसी तरह का संकोच न करें।

    ReplyDelete
  2. आपकी पोस्‍ट हारजीत का फैसला अच्‍छी लगी। गुड जॉब।

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

चिड़िया की कहानी

बहुत अच्छे विचार जरुर पढ़े

माँ बाप की सेवा